Delhi NCR Featured National (State list)

भारत से घबरा रहा है आतंकी हाफिज सईद, दे रहा है धमकी!

शैतान की ज़ुबान पर ऊपर वाले का नाम हैरान तो करता है… लेकिन इन दिनों कुछ ऐसी ही हालत हज़ारों बेगुनाहों के ख़ून से अपने हाथ रंगने वाले पाकिस्तानी आतंकवादी हाफ़िज़ सईद की है. कल तक जो हाफ़िज़ सईद हिंदुस्तान को सबक सिखाने के दम भरा करता था, अब इंडियन आर्मी की जांबाज़ी देखकर वो क़त्लो-गारत के रास्ते ही ग़लत ठहराने में लगा है. असल में अकेले इसी साल हिंदुस्तानी फ़ौज ने कश्मीर में ढाई सौ से ज़्यादा आतंकवादियों को मौत की नींद सुला दिया है, ऐसे में हाफ़िज़ सईद ने जो नया वीडियो जारी किया है, उसमें वो मिमियाता सुनाई दे रहा है.

आतंकी हाफिज सईद कह रहा है “मैं आज अपने अजीम कश्मीरी भाइयों की इस कद्र अजीम कुर्बानी पर आज उनको तहसीम पेश करता हूं. इंडियन आर्मी चीफ से ये कहना चाहता हूं कि कबसे गोलियां मार रहे हैं. सीधी गोलियां मारना.. मर्दों औरतों को इस तरह कत्ल करना क्या यही रस्ता है. ये दर्जन से ज्यादा कत्ल और बीसियों जख्मी जान तोड़ रहे हैं. ये गोलियां कत्ल इससे दुनिया में मसले हल नहीं होते. वजीर-ए-आजम से गुजारिश करता हूं इस मसले को छोड़ ना दिया जाए.”

ये हाफिज़ को क्या हो गया. मालूम होता है आतंकिस्तान में सब खैरियत नहीं है. वरना अपनी गीदड़ भभकियों के लिए मशहूर हाफिज़ सईद के बयानों में ये बेबसी में नज़र ना आती. घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट का असर हाफिज़ सईद और उसके गुर्गों पर ठीक वैसे ही हो रहा है. जैसा घर में मच्छर भगाने वाली मशीन लगाने के बाद मच्छरों का होता है.

भारत का दुश्मन हाफिज सईद कह रहा है “मैं पूछता हूं आर्मी चीफ के साथ जो आखिरी ऑपरेशन करने जा रहा है. सीधी गोलियां मारना. मर्दों औरतों को इस तरह कत्ल करना क्या यही रस्ता है तहरीकों को खत्म करने का. ये मसाइल के हल करने का. एशिया के सबसे बड़े चैंपियन बनने की कोशिश कर रहे हैं. मैं उस हिंद सरकार और आर्मी चीफ से पूछना चाहता हूं. जो इजाफा किया है तो आप इसका क्या नतीजा ले लेंग. एक ही रस्ता है. कश्मीर को आजादी दो.”

दरअसल, ये हमारे जवानों को हल्के में ले रहे थे. मगर सेना ने थोड़ी आंख क्या दिखाई. ये तो घुटनों पर ही आ गए. और इंसानियत का पाठ पढ़ाने लगे. मगर जनाब इंसानियत का सबक लेने या देने की पहली शर्त. इंसान होना है. और इस पैमाने में दुनिया का ये सबसे खूंखार आतंकी फिट नहीं बैठता है. खैर इसे हाफिज़ सईद की वो बौखलाहट समझिए जिसे अल्फाज़ नहीं मिल पा रहे हैं.

भारतीय सेना के ऑपरेशन ऑलआउट की वजह से कश्मीर में पाकिस्तान से एक्सपोर्ट होने वाले आतंकवादियों की हालत तू चल मैं आया वाली हो चुकी है. अब आलम ये है कि कश्मीर के तमाम आतंकी संगठनों में स्टाफ की कमी हो गई है. और इस कमी को पूरा करने के लिए कश्मीर के नौजवानों का अपहरण किया जा रहा है ताकि उन्हें बरगला कर आतंकी बनाया जा सके. जो अपनी ही घाटी के लोगों का कत्लेआम करें. मगर ऑपरेशन ऑल आउट ने तो हाफिज़ के तमाम प्लान की धज्जियां उड़ा रखी हैं. और उल्टा घाटी को बेगुनाहों के खून से लाल करने वाला अब शांति का पाठ पढ़ा रहे हैं.

सेना के ऑपरेशन ने हाफिज़ के तमाम मनसूबों पर ना सिर्फ पानी फेर दिया है बल्कि उसे ये एहसास भी करा दिया है कि भारतीय जवानों का ये फुल एक्शन तब तक जारी रहेगा जब तक घाटी के आतंकियों को जन्नत तक पहुंचा नहीं दिया जाता है. साल अभी खत्म भी नहीं हुआ और सेना अब तक 251 आतंकियों को मौत के घाट उतार चुकी है.

गिनती अभी भी जारी रहेगी. और तब तक ये काउंटडाउन चलता रहेगा, जब तक घाटी को आतंकियों से क्लीन नहीं कर दिया जाता. सेना ने भी कसम खा रखी है कि जब तक पाकिस्तान कश्मीर के पत्थरबाजों को देशद्रोह की घुट्टी पिलाना बंद नहीं कर देता. तब तक ये ऑपरेशन रुकने वाला नहीं है. लिहाज़ा तब तक हाफिज के इन वीडियो शोक संदेशों की आदत डाल लीजिए.

अपने वीडियो मैसेज में हाफिज सईद कह रहा है “मैं आज अपने अजीम कश्मीरी भाइयों की इस कद्र अजीम कुर्बानी पर आज उनको तहसीम पेश करता हूं और मैं यकीन से कहता हूं कि इंशाअल्लाह कश्मीर की आजादी के दिन करीब हैं. अल्लाह ताला शोहदाओं की कुर्बानी अता फरमाए. जल्द सेहतयाब करे लेकिन मैं गुजारिश करना चाहता हूं कि आपने बड़े रस्ते का इंतखाब कर लिया है. जिस सतह की कुर्बानी दे दी है. आजादी की कुछ नहीं है. इंशा अल्लाह बहुत जल्द कश्मीर के लोगों को एक शानदार आजादी इस सदी का सबसे बड़ा वाकया होगा.”

हाफिज सईद का ग़म समझा जा सकता है. क्यों कि पिछले दो सालों से.. जब से ऑपरेशन ऑल आउट शुरू हुआ है. तब से सरहद पार से भारत में आतंकी आते तो ज़रूर हैं, मगर वापस नहीं जा पाते हैं. अब तक हाफिज़ के सैकड़ों गुर्गे बिना कुछ किए ही कुर्बान हो चुके हैं. और आतंक के एक भी मंसूबे को भारतीय सेना ने पूरा नहीं होने दिया है.

Related posts

डॉक्‍टर जितेन्‍द्र सिंह ने बेंगलुरू में ‘उन्‍नति’ – यूनिस्‍पेस नेनोसेटेलाइट असेम्‍बली एंड ट्रेनिंग प्रोगाम ऑफ इसरो, का उद्घाटन किया

admin

GST काउंसिल बैठक: 33 सामानों पर कम हुई GST, एक जनवरी से नई कीमतें

admin

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कुलपतियों के लिए उच्च शिक्षा में नेतृत्व विकास पर दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारम्भ किया

admin

Flash