Delhi NCR Humanism National (State list) News

संयुक्त राष्ट्र में कन्नड़ में भाषण देने वाले पहले शख्स थे अनंत कुमार, कर्नाटक में बीजेपी को किया था मजबूत

बंगलोर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दृढ़ विचारक, संगठन के मजबूत स्तंभ, बेंगलुरु के “सबसे ज्यादा पसंद” किए जाने वाले सांसद और संयुक्त राष्ट्र में कन्नड़ में बोलने वाले पहले व्यक्ति, ये कुछ ऐसी विशिष्टताएं हैं जो केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार के व्यक्तित्व से परिचय कराती हैं. अपनी राजनीतिक निपुणता के लिए विख्यात कुमार छह बार सांसद रहे. वह राजनीति की जबर्दस्त समझ रखते थे और बेहद मिलनसार थे. वह बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व के हमेशा करीब रहे- चाहे वह अटल बिहारी वाजपेयी या लालकृष्ण आडवाणी का दौर रहा हो या फिर अभी नरेंद्र मोदी के समय में.  22 जुलाई, 1959 को बेंगलुरु में एक मध्यम वर्गीय ब्राह्मण परिवार में जन्मे कुमार ने अपनी शुरुआती शिक्षा अपनी मां गिरिजा एन शास्त्री के मार्गदर्शन में पूरी की जो खुद भी एक ग्रेजुएट थीं. उनके पिता नारायण शास्त्री रेलवे के कर्मचारी थे. कला एवं कानून में स्नातक कुमार के सार्वजनिक जीवन की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े रहने के कारण हुई. वह एबीवीपी के प्रदेश सचिव और राष्ट्रीय सचिव भी रहे. कुमार ने तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार द्वारा आपातकाल लगाए जाने के खिलाफ प्रदर्शन किया था और करीब 30 दिनों तक वह जेल में भी रहे.

Related posts

दलित नेता और बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्रीबाई फुले हुईं भाजपा से अलग, पार्टी पर लगाया यह बड़ा आरोप

admin

अब चिराग पासवान ने अरुण जेटली को पत्र लिख पूछा- वित्त मंत्री जी बताइये नोटबंदी का क्या फायदा हुआ: सूत्र

admin

कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले के बाद धरी रह गईं भाजपा की सारी तैयारियां

admin

Flash